Shayari

Top 50 Allama Iqbal Shayari in Hindi with Image

Allama Iqbal Shayari : In his post we share with you best Allama Iqbal Shayari so you enjoy this post or definitely you will learn something good from Allama Iqbal Shayari . Shayari is the best thing to enjoy with your friend by share this Allama Iqbal Shayari .

Allama Iqbal Shayari is the best shayari lot of people follow and read or even people like to learn this Allama Iqbal Shayari due o their passion. This is Love Two Line Shayari you can use it for your with your school projects. from Allama Iqbal Shayari you will learn real meaning of life. you can share these shayari with your friends on social media.

We make it simple for you to find the best Allama Iqbal Shayari for Girlfriend so let’s start to read….

 

Allama Iqbal Shayari Image

OIP

OIP-1

for more : Allama Iqbal Shayari Image

Allama Iqbal Shayari

Dua to dil se mangi jati hai, zubaan se nahi ae iqbal,
Qubool toh uski bhi hoti hai jiski zubaan nahi hoti.

Khafa jo ishq mein hote hain, wo khafa hi nahin,
Sitam na ho mohabbat mein, kuch maza hi nahi.

Manzil se aage badh kar, manzil talash kar,
Mil jaye tujhko dariya, samundar talaash kar.
Har sheesha toot jaata hai pathar ki chot se,
Pathar hi toot jaye, wo sheesha talaash kar.

Koi ibadat ki chah mein roya,
Koi ibaadat ki raah mein roya,
Ajeeb hai ye namaz-e-mohabbat ke silsile iqbal,
Koi kaza kar ke roya, Koi ada kar ke roya.

ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है
कि मैं इस फ़िक्र में रहता हूँ मेरी इंतिहा क्या है
ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

khird-mandon se kya puchhun ki meri ibtida kya hai
ki main is fikr mein rahata hun meri intiha kya hai
khudi ko kar buland itana ki har taqadir se pahale
khuda bande se khud puchhe bata teri raza kya hai

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ
ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

tire ishq ki intiha chaahata hun
miri saadagi dekh kya chaahata hun
ye jannat mubaarak rahe zaahidon ko
ki main aap ka saamana chaahata hun

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

nasha pila ke giraana to sab ko aata hai
maza to tab hai ki giraton ko thaam le saaqi

तेरा इमाम बे-हुज़ूर तेरी नमाज़ बे-सुरूर
ऐसी नमाज़ से गुज़र ऐसे इमाम से गुज़र

tera imaam be-huzur teri namaaz be-surur
aisi namaaz se guzar aise imaam se guzar

iqbal shayariiqbal shayari
हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

hazaaron saal nargis apani be-nuri pe roti hai
badi mushkil se hota hai chaman mein dida-var paida

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

ye jannat mubaarak rahe zaahidon ko
ki main aap ka saamana chaahata hun

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

achchha hai dil ke saath rahe paasabaan-e-aql
lekin kabhi kabhi ise tanha bhi chhod de

फ़िर्क़ा-बंदी है कहीं और कहीं ज़ातें हैं
क्या ज़माने में पनपने की यही बातें हैं

firqa-bandi hai kahin aur kahin zaaten hain
kya zamaane mein panapane ki yahi baaten hain

Kaun rakhega yaad hume is daure khudgarzi mein,
Haalat aise hai ki logon ko khuda yaad nahi.

Masjid khuda ka ghar hai, peene ki jagah nahi,
Kafir ke dil mein ja, wahan khuda nahin.

Na rakh ummed-e-wafa kisi parinde se iqbal,
Jab par nikal aate hai toh apna aashiyana bhool jate hain.

Sone de agar wo so raha hai gulami ki neend mein,
Ho sakta hai wo khwab azaadi ka dekh raha ho.

Dil se jo baat nikli hai, asar rakhti hai,
Par nahin, magar takat-e-parwaaz rakhti hai.

Hazaron saal nargis apni be-noori par roti hai,
Badi mushkil se hota hai, chaman mein deedawar paida.

Mana ki teri deed ke kabhil nahin hoon main,
Tum era shauq dekh, mera intezaar dekh.

Mazhab nahin sikhata aapas mein bair rakhna,
Hindi hain hum, watan hai hindostaan humara.

Mujhe rokega kya tu ae nakhuda gharq hone se,
Ki jinko doobna hai doob jaate hain safinon mein.

Nahin hai na-ummeed iqbal apni kisht-e-viraan se,
Zara nam ho to ye mitti bahut zarkhez hai saaqi.

अपने मन में डूब कर पा जा सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन

apane man mein dub kar pa ja suraag-e-zindagi
tu agar mera nahin banata na ban apana to ban

दिल सोज़ से ख़ाली है निगह पाक नहीं है
फिर इस में अजब क्या कि तू बेबाक नहीं है

dil soz se khaali hai nigah paak nahin hai
phir is mein ajab kya ki tu bebaak nahin hai

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर
तू शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चटानों में

nahin tera nasheman qasr-e-sultaani ke gumbad par
tu shaahin hai basera kar pahaadon ki chataanon mein

गला तो घोंट दिया अहल-ए-मदरसा ने तिरा
कहाँ से आए सदा ला इलाह इल-लल्लाह

gala to ghont diya ahal-e-madarasa ne tira
kahaan se aae sada la ilaah il-lallaah

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

duniya ki mahafilon se ukata gaya hun ya rab
kya lutf anjuman ka jab dil hi bujh gaya ho

allama iqbal poetryallama iqbal poetry
महीने वस्ल के घड़ियों की सूरत उड़ते जाते हैं
मगर घड़ियाँ जुदाई की गुज़रती हैं महीनों में

mahine vasl ke ghadiyon ki surat udate jaate hain
magar ghadiyaan judai ki guzarati hain mahinon mein

 

Purane hai ye sitare, falak bhi farsuda,
Jahan wo chahiye mujh ko ki ho abhi nau-khez.

Yakin mohkam, amal paiham, mohabbat fatah-e-alam,
jihad-e-zindagani mein hain ye mardon ki shamsheeren.

Sitaron se aage jahan aur bhi hain,
Abhi ishq me imtehaan aur bhi hain.

Hansi aati hai mujhe hasrat-e-insaan par,
Gunaah karta hai khud laanat bhejta hai shaitaan par.

Tere ishq ki intehaan chahta hu,
Meri sadagi dekh kya chahta hun.

Paerwane ko chirag hai bulbul ko phool bas,
Siddique ke liye hai khuda ka rasool bas.

Umr bhar likhte rahe phir bhi warakh sada raha,
Jane kya lafz the jo humse tumhare na huye.

नहीं है ना-उमीद ‘इक़बाल’ अपनी किश्त-ए-वीराँ से
ज़रा नम हो तो ये मिट्टी बहुत ज़रख़ेज़ है साक़ी

अगर हंगामा-हा-ए-शौक़ से है ला-मकाँ ख़ाली
ख़ता किस की है या रब ला-मकाँ तेरा है या मेरा

नहीं इस खुली फ़ज़ा में कोई गोशा-ए-फ़राग़त
ये जहाँ अजब जहाँ है न क़फ़स न आशियाना

जब इश्क़ सिखाता है आदाब-ए-ख़ुद-आगाही
खुलते हैं ग़ुलामों पर असरार-ए-शहंशाही

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर
तू शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चटानों में

इश्क़ तिरी इंतिहा इश्क़ मिरी इंतिहा
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

जलाल-ए-पादशाही हो कि जमहूरी तमाशा हो
जुदा हो दीं सियासत से तो रह जाती है चंगेज़ी

निगाह-ए-इश्क़ दिल-ए-ज़िंदा की तलाश में है
शिकार-ए-मुर्दा सज़ा-वार-ए-शाहबाज़ नहीं

अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

निगह बुलंद सुख़न दिल-नवाज़ जाँ पुर-सोज़
यही है रख़्त-ए-सफ़र मीर-ए-कारवाँ के लिए

जम्हूरियत इक तर्ज़-ए-हुकूमत है कि जिस में
बंदों को गिना करते हैं तौला नहीं करते

निकल जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है

इसी ख़ता से इताब-ए-मुलूक है मुझ पर
कि जानता हूँ मआल-ए-सिकंदरी क्या है

Sau baar kaha maine inqaar hai mohabbat se,
Har baar sadaai tum dil se nahi kehte.

Teri rehmat pe hai munahsir mere har amal ki kabooliyat,
Na mujhe saleekah iltejah, na mujhe shaori namaz hai.

Husn e kirdaar se noor e mujassam ho ja,
Ki iblees bhi tujhe dekhe to musalmaan ho jaye.

Kisi ki yaad ne zakhmon se bhar diya seena.
Har ek saans par shak hai ki aakhri hogi.

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

dil se jo baat nikalati hai asar rakhati hai
par nahin taaqat-e-paravaaz magar rakhati hai

वजूद-ए-ज़न से है तस्वीर-ए-काएनात में रंग
इसी के साज़ से है ज़िंदगी का सोज़-ए-दरूँ

vajud-e-zan se hai tasvir-e-kaenaat mein rang
isi ke saaz se hai zindagi ka soz-e-darun

 

इल्म में भी सुरूर है लेकिन
ये वो जन्नत है जिस में हूर नहीं

ilm mein bhi surur hai lekin
ye vo jannat hai jis mein hur nahin

जो मैं सर-ब-सज्दा हुआ कभी तो ज़मीं से आने लगी सदा
तिरा दिल तो है सनम-आश्ना तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में

jo main sar-ba-sajda hua kabhi to zamin se aane lagi sada
tira dil to hai sanam-aashna tujhe kya milega namaaz mein

ऐ ताइर-ए-लाहूती उस रिज़्क़ से मौत अच्छी
जिस रिज़्क़ से आती हो परवाज़ में कोताही

ai tair-e-laahuti us rizq se maut achchhi
jis rizq se aati ho paravaaz mein kotaahi

ज़ाहिर की आँख से न तमाशा करे कोई
हो देखना तो दीदा-ए-दिल वा करे कोई

zaahir ki aankh se na tamaasha kare koi
ho dekhana to dida-e-dil va kare koi

हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ी
ख़ुदा करे कि जवानी तिरी रहे बे-दाग़

haya nahin hai zamaane ki aankh mein baaqi
khuda kare ki javaani tiri rahe be-daag

allama iqbal shayariallama iqbal shayari
उमीद-ए-हूर ने सब कुछ सिखा रक्खा है वाइज़ को
ये हज़रत देखने में सीधे-सादे भोले-भाले हैं

umid-e-hur ne sab kuchh sikha rakkha hai vaiz ko
ye hazarat dekhane mein sidhe-saade bhole-bhaale hain

जिस खेत से दहक़ाँ को मयस्सर नहीं रोज़ी
उस खेत के हर ख़ोशा-ए-गंदुम को जला दो

jis khet se dahaqaan ko mayassar nahin rozi
us khet ke har khosha-e-gandum ko jala do

जिन्हें मैं ढूँढता था आसमानों में ज़मीनों में
वो निकले मेरे ज़ुल्मत-ख़ाना-ए-दिल के मकीनों में

jinhen main dhundhata tha aasamaanon mein zaminon mein
vo nikale mere zulmat-khaana-e-dil ke makinon mein

ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें
जो हो ज़ौक़-ए-यक़ीं पैदा तो कट जाती हैं ज़ंजीरें

gulaami mein na kaam aati hain shamashiren na tadabiren
jo ho zauq-e-yaqin paida to kat jaati hain zanjiren

‘अत्तार’ हो ‘रूमी’ हो ‘राज़ी’ हो ‘ग़ज़ाली’ हो
कुछ हाथ नहीं आता बे-आह-ए-सहर-गाही

attaar ho rumi ho raazi ho gazaali ho
kuchh haath nahin aata be-aah-e-sahar-gaahi

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का
न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है

faqat nigaah se hota hai faisala dil ka
na ho nigaah mein shokhi to dilabari kya hai

बे-ख़तर कूद पड़ा आतिश-ए-नमरूद में इश्क़
अक़्ल है महव-ए-तमाशा-ए-लब-ए-बाम अभी

be-khatar kud pada aatish-e-namarud mein ishq
aql hai mahav-e-tamaasha-e-lab-e-baam abhi

अमल से ज़िंदगी बनती है जन्नत भी जहन्नम भी
ये ख़ाकी अपनी फ़ितरत में न नूरी है न नारी है

amal se zindagi banati hai jannat bhi jahannam bhi
ye khaaki apani fitarat mein na nuri hai na naari hai

तुझे किताब से मुमकिन नहीं फ़राग़ कि तू
किताब-ख़्वाँ है मगर साहिब-ए-किताब नहीं

tujhe kitaab se mumakin nahin faraag ki tu
kitaab-khvaan hai magar saahib-e-kitaab nahin

इश्क़ तिरी इंतिहा इश्क़ मिरी इंतिहा
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम

ishq tiri intiha ishq miri intiha
tu bhi abhi na-tamaam main bhi abhi na-tamaam

बातिल से दबने वाले ऐ आसमाँ नहीं हम
सौ बार कर चुका है तू इम्तिहाँ हमारा

baatil se dabane vaale ai aasamaan nahin ham
sau baar kar chuka hai tu imtihaan hamaara

तमन्ना दर्द-ए-दिल की हो तो कर ख़िदमत फ़क़ीरों की
नहीं मिलता ये गौहर बादशाहों के ख़ज़ीनों में

tamanna dard-e-dil ki ho to kar khidamat faqiron ki
nahin milata ye gauhar baadashaahon ke khazinon mein

तू क़ादिर ओ आदिल है मगर तेरे जहाँ में
हैं तल्ख़ बहुत बंदा-ए-मज़दूर के औक़ात

tu qaadir o aadil hai magar tere jahaan mein
hain talkh bahut banda-e-mazadur ke auqaat

कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में
कि हज़ारों सज्दे तड़प रहे हैं मिरी जबीन-ए-नियाज़ में

kabhi ai haqiqat-e-muntazar nazar aa libaas-e-majaaz mein
ki hazaaron sajde tadap rahe hain miri jabin-e-niyaaz mein

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसिताँ हमारा

तुम से गिला किया ना ज़माने से कुछ कहा.
बर्बाद हु गये बड़ी साग्दी से हम..

जिन का मिलना नसीब में नहीं होता..
उनकी मोहब्बत कमाल कि होती है..

saare jahaan se achchha hindostaan hamaara
ham bulabulen hain is ki ye gulasitaan hamaara

ख़ुदावंदा ये तेरे सादा-दिल बंदे किधर जाएँ
कि दरवेशी भी अय्यारी है सुल्तानी भी अय्यारी

khudaavanda ye tere saada-dil bande kidhar jaen
ki daraveshi bhi ayyaari hai sultaani bhi ayyaari

उक़ाबी रूह जब बेदार होती है जवानों में
नज़र आती है उन को अपनी मंज़िल आसमानों में

uqaabi ruh jab bedaar hoti hai javaanon mein
nazar aati hai un ko apani manzil aasamaanon mein

allama iqbal quotesallama iqbal quotes
अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

anokhi vaz hai saare zamaane se niraale hain
ye aashiq kaun si basti ke ya-rab rahane vaale hain

ये काएनात अभी ना-तमाम है शायद
कि आ रही है दमादम सदा-ए-कुन-फ़यकूँ

ye kaenaat abhi na-tamaam hai shaayad
ki aa rahi hai damaadam sada-e-kun-fayakun

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में ग़म-ए-मंज़िल न बन जाए

ख़ुदी वो बहर है जिस का कोई किनारा नहीं
तू आबजू इसे समझा अगर तो चारा नहीं

आईन-ए-जवाँ-मर्दां हक़-गोई ओ बे-बाकी
अल्लाह के शेरों को आती नहीं रूबाही

किसे ख़बर कि सफ़ीने डुबो चुकी कितने
फ़क़ीह ओ सूफ़ी ओ शाइर की ना-ख़ुश-अंदेशी

कभी हम से कभी ग़ैरों से शनासाई है
बात कहने की नहीं तू भी तो हरजाई है

कुशादा दस्त-ए-करम जब वो बे-नियाज़ करे
नियाज़-मंद न क्यूँ आजिज़ी पे नाज़ करे

अक़्ल को तन्क़ीद से फ़ुर्सत नहीं
इश्क़ पर आमाल की बुनियाद रख

तुझे किताब से मुमकिन नहीं फ़राग़ कि तू
किताब-ख़्वाँ है मगर साहिब-ए-किताब नहीं

ऋषी के फ़ाक़ों से टूटा न बरहमन का तिलिस्म
असा न हो तो कलीमी है कार-ए-बे-बुनियाद

तू है मुहीत-ए-बे-कराँ मैं हूँ ज़रा सी आबजू
या मुझे हम-कनार कर या मुझे बे-कनार कर

ऐ ताइर-ए-लाहूती उस रिज़्क़ से मौत अच्छी
जिस रिज़्क़ से आती हो परवाज़ में कोताही

तू ने ये क्या ग़ज़ब किया मुझ को भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-काएनात में

उमीद-ए-हूर ने सब कुछ सिखा रक्खा है वाइज़ को
ये हज़रत देखने में सीधे-सादे भोले-भाले हैं

तू क़ादिर ओ आदिल है मगर तेरे जहाँ में
हैं तल्ख़ बहुत बंदा-ए-मज़दूर के औक़ात

‘अत्तार’ हो ‘रूमी’ हो ‘राज़ी’ हो ‘ग़ज़ाली’ हो
कुछ हाथ नहीं आता बे-आह-ए-सहर-गाही

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा
तिरे सामने आसमाँ और भी हैं

जलाल-ए-पादशाही हो कि जमहूरी तमाशा हो
जुदा हो दीं सियासत से तो रह जाती है चंगेज़ी

jalaal-e-paadashaahi ho ki jamahuri tamaasha ho
juda ho din siyaasat se to rah jaati hai changezi

अक़्ल को तन्क़ीद से फ़ुर्सत नहीं
इश्क़ पर आमाल की बुनियाद रख

aql ko tanqid se fursat nahin
ishq par aamaal ki buniyaad rakh

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में ग़म-ए-मंज़िल न बन जाए

kabhi chhodi hui manzil bhi yaad aati hai raahi ko
khatak si hai jo sine mein gam-e-manzil na ban jae

Mat kar khaaq ke patte par ghuroor wa beniyaazi itni,
Khud ko khud me jhaank kar dekh tujhme rakha kya hai.

Kashti bhi nahi badali, dariya bhi nahi badala,
Aur doobne waalon ka jazba bhi nahi badala.
Hai shauk safar ek arse se yaaron,
Manzil bhi nahi paayi aur rasta bhi nahi badala.

Likhna nahi aata to meri jaan padha kar
Ho jayegi teri mushkil asaan padha kar
Padhne ke liye agar tujhe kuch na mile to
Chehron pe likhe dard ka gwaan padha kar.

उक़ाबी रूह जब बेदार होती है जवानों में
नज़र आती है उन को अपनी मंज़िल आसमानों में

ज़माम-ए-कार अगर मज़दूर के हाथों में हो फिर क्या
तरीक़-ए-कोहकन में भी वही हीले हैं परवेज़ी

आँख जो कुछ देखती है लब पे आ सकता नहीं
महव-ए-हैरत हूँ कि दुनिया क्या से क्या हो जाएगी

ज़माना अक़्ल को समझा हुआ है मिशअल-ए-राह
किसे ख़बर कि जुनूँ भी है साहिब-ए-इदराक

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
कि ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए

ज़मीर-ए-लाला मय-ए-लाल से हुआ लबरेज़
इशारा पाते ही सूफ़ी ने तोड़ दी परहेज़

अज़ाब-ए-दानिश-ए-हाज़िर से बा-ख़बर हूँ मैं
कि मैं इस आग में डाला गया हूँ मिस्ल-ए-ख़लील

ज़िंदगानी की हक़ीक़त कोहकन के दिल से पूछ
जू-ए-शीर ओ तेशा ओ संग-ए-गिराँ है ज़िंदगी

उसे सुब्ह-ए-अज़ल इंकार की जुरअत हुई क्यूँकर
मुझे मालूम क्या वो राज़-दाँ तेरा है या मेरा

बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ
कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर

अमल से ज़िंदगी बनती है जन्नत भी जहन्नम भी
ये ख़ाकी अपनी फ़ितरत में न नूरी है न नारी है

बातिल से दबने वाले ऐ आसमाँ नहीं हम
सौ बार कर चुका है तू इम्तिहाँ हमारा

ढूँडता फिरता हूँ मैं ‘इक़बाल’ अपने आप को
आप ही गोया मुसाफ़िर आप ही मंज़िल हूँ मैं

बे-ख़तर कूद पड़ा आतिश-ए-नमरूद में इश्क़
अक़्ल है महव-ए-तमाशा-ए-लब-ए-बाम अभी

अल्लामा इकबाल शायरी इन हिंदी
एक सरमस्ती ओ हैरत है सरापा तारीक
एक सरमस्ती ओ हैरत है तमाम आगाही

बुतों से तुझ को उमीदें ख़ुदा से नौमीदी
मुझे बता तो सही और काफ़िरी क्या है

गला तो घोंट दिया अहल-ए-मदरसा ने तिरा
कहाँ से आए सदा ला इलाह इल-लल्लाह

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

दिल सोज़ से ख़ाली है निगह पाक नहीं है
फिर इस में अजब क्या कि तू बेबाक नहीं है

गेसू-ए-ताबदार को और भी ताबदार कर
होश ओ ख़िरद शिकार कर क़ल्ब ओ नज़र शिकार कर

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

इल्म में भी सुरूर है लेकिन
ये वो जन्नत है जिस में हूर नहीं

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का
न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है

ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें
जो हो ज़ौक़-ए-यक़ीं पैदा तो कट जाती हैं ज़ंजीरें

फ़िर्क़ा-बंदी है कहीं और कहीं ज़ातें हैं
क्या ज़माने में पनपने की यही बातें हैं

अंदाज़-ए-बयाँ गरचे बहुत शोख़ नहीं है
शायद कि उतर जाए तिरे दिल में मिरी बात

फ़ितरत को ख़िरद के रू-ब-रू कर
तस्ख़ीर-ए-मक़ाम-ए-रंग-ओ-बू कर

गुलज़ार-ए-हस्त-ओ-बूद न बेगाना-वार देख
है देखने की चीज़ इसे बार बार देख

न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर

न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिन्दोस्ताँ वालो
तुम्हारी दास्ताँ तक भी न होगी दास्तानों में

गुज़र जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है

Bura samjho unhe mujhse to aisa ho nahi sakta,
Kah main khud to hu Iqbal apne nukhtah chinoon main.

Thank for read Top 50 Allama Iqbal Shayari in Hindi with Image

other shayari :

50+ Two Line Shayari in Hindi with Image

60+ Waqt Shayari in Hindi with Image

50+ Success Motivational Shayari with Image

50+ Mood off Shayari in hindi with Image

Love Shayari Marathi with Image

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WishesHippo